Select Page

Tulsi Mata Ki Aarti

Tulsi Mata Ki Aarti : तुलसी माता की आरती

Tulsi-mata-ki-Aarti

Tulsi Mata Ki Aarti : तुलसी माता की आरती

Tulsi Mata Aarti Lyrics in hindi

जय जय तुलसी माता
सब जग की सुख दाता, वर दाता
जय जय तुलसी माता ।।

सब योगों के ऊपर, सब रोगों के ऊपर
रुज से रक्षा करके भव त्राता
जय जय तुलसी माता।।

बटु पुत्री हे श्यामा, सुर बल्ली हे ग्राम्या
विष्णु प्रिये जो तुमको सेवे, सो नर तर जाता
जय जय तुलसी माता ।।

हरि के शीश विराजत, त्रिभुवन से हो वन्दित
पतित जनो की तारिणी विख्याता
जय जय तुलसी माता ।।

लेकर जन्म विजन में, आई दिव्य भवन में
मानवलोक तुम्ही से सुख संपति पाता
जय जय तुलसी माता ।।

हरि को तुम अति प्यारी, श्यामवरण तुम्हारी
प्रेम अजब हैं उनका तुमसे कैसा नाता
जय जय तुलसी माता ।।

जय जय तुलसी माता
सब जग की सुख दाता, वर दाता
जय जय तुलसी माता ।।

यह भी जाने :

हनुमान जी की आरती​

आरती कीजै हनुमान लला की । दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥ जाके बल से गिरवर काँपे । रोग-दोष जाके निकट न झाँके ॥

कुंज बिहारी की आरती

आरती कुंज बिहारी की, श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की। गले में बैजन्ती माला

श्याम बाबा की आरती

ॐ जय श्री श्याम हरे, बाबा जय श्री श्याम हरे। खाटू धाम विराजत, अनुपम रूप धरे॥

शीतला माता आरती

जय शीतला माता, मैया जय शीतला माता। आदि ज्योति महारानी, सब फल की दाता॥

ॐ जय जगदीश आरती

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी ! जय जगदीश हरे भक्त जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

महादेव जी की आरती​

हर हर हर महादेव! सत्य, सनातन, सुन्दर, शिव  सबके स्वामी। अविकारी अविनाशी, अज अन्तर्यामी॥

Tulsi Mata Ki Aarti

Tulsi Mata Aarti Lyrics in hindi or English

तुलसी माता की आरती