Select Page

Saraswati Mata Ki Aarti

Saraswati Mata Ki Aarti : सरस्वती माता की आरती

Saraswati-mata-Aarti

Saraswati Mata Ki Aarti :  सरस्वती माता की आरती

Saraswati Mata Ki Aarti Lyrics in Hindi

ॐ जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता।
सद्गुण, वैभवशालिनि, त्रिभुवन विख्याता 

ॐ जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता।

चन्द्रवदनि, पद्मासिनि द्युति मंगलकारी।
सोहे हंस-सवारी, अतुल तेजधारी

ॐ जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता।

बायें कर में वीणा, दूजे कर माला।
शीश मुकुट-मणि सोहे, गले मोतियन माला

ॐ जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता।

देव शरण में आये, उनका उद्धार किया।
पैठि मंथरा दासी, असुर-संहार किया

ॐ जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता।

वेद-ज्ञान-प्रदायिनी, बुद्धि-प्रकाश करो।।
मोहज्ञान तिमिर का सत्वर नाश करो

ॐ जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता।

धूप-दीप-फल-मेवा-पूजा स्वीकार करो।
ज्ञान-चक्षु दे माता, सब गुण-ज्ञान भरो

ॐ जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता।

माँ सरस्वती की आरती, जो कोई जन गावे।
हितकारी, सुखकारी ज्ञान-भक्ति पावे

ॐ जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता।

Saraswat Mata ki Aarti Lyrics in English

Jai Saraswati mata, Maiya jai Saraswati mata
Sadgun vaibhav shalini, tribhuvan vikhyata

Om Jai Saraswati Mata

Chandravadani padmasini dyuti mangalakare,
Sohe shub hansa savare, atul tejdhari

Om Jai Saraswati Mata

Baen kar men vina, daen kar mala,
Shish mukut mani sohe, gal motiyan mala

Om Jai Saraswati Mata

Devi sharan jo ae, unka uddhar kiya,
Paithi Manthra dasi, Ravan sanhar kiya

Om Jai Saraswati Mata

Vidya gyan pradayini, jag men gyan prakash bharo,
Moh aur agyan timir ka jag se nash karo

Om Jai Saraswati Mata

Dhup dip phal meva, man svikar karo,
Gyanchakshu de mata, jag nistar karo

Om Jai Saraswati Mata

Man Saraswati ki arti jo koi jan gave,
Hitkari sukhkari, gyan bhakti pave

Om Jai Saraswati Mata

यह भी जाने :

हनुमान जी की आरती​

आरती कीजै हनुमान लला की । दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥ जाके बल से गिरवर काँपे । रोग-दोष जाके निकट न झाँके ॥

कुंज बिहारी की आरती

आरती कुंज बिहारी की, श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की। गले में बैजन्ती माला

श्याम बाबा की आरती

ॐ जय श्री श्याम हरे, बाबा जय श्री श्याम हरे। खाटू धाम विराजत, अनुपम रूप धरे॥

शीतला माता आरती

जय शीतला माता, मैया जय शीतला माता। आदि ज्योति महारानी, सब फल की दाता॥

ॐ जय जगदीश आरती

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी ! जय जगदीश हरे भक्त जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

महादेव जी की आरती​

हर हर हर महादेव! सत्य, सनातन, सुन्दर, शिव  सबके स्वामी। अविकारी अविनाशी, अज अन्तर्यामी॥

सरस्वती माता की आरती

Saraswati Mata Ki Aarti

Saraswati Mata aarti lyrics in Hindi